Top #153 Shayari in hindi – बेहतरीन लव शायरी

जो अपनी भावनाओं को समझकर उन भावनाओ को शायरी का रूप देता है वह इंसान कवि होता है और कवियों ने अपने जीवन के अत्यंत महत्वपूर्ण समय को देकर ऐसी शायरियों का निर्माण किया है जो आज के समय मे लगभग सभी व्यक्तियों की भावनाओ को अपने शायराना अंदाज में व्यक्त करने के काम मे आती है।

वैसे तो दुनिया मे करोड़ो शायरियों का निर्माण किया जा चुका है जिसमे Love shayari, sad shayari, funny shayari जैसी अनेको categories में बंटा गया है।

इस पेज पर हमने आपको ऐसी ही बेहतरीन Hindi Shayari का संग्रह प्रदान किया है जो आपकी भावनाओं को बेहतरीन तरीके से लोगो तक पहुचने में आपकी मदद करती है।

Hindi Shayari

#1 Shayari in hindi 

तेरे वजूद से ही मेरी मुकम्मल कहानी,
मैं एक खोखली सीप तू एक मोती रूहानी।shayari in hindi (1)

#2 shayari in hindi

मोहल्ले की मोहब्बत का भी अजीब फसाना है,
चार घर की दूरी और बीच मे सारा जमाना है।shayari in hindi (2)

#3 shayari in hindi

खुला ना रख हर एक के लिये दिल का दरवाज़ा,
ये दिल एक घर हैं इसे बाज़ार मत बना।shayari in hindi (3)

#4 shayari in hindi

कोशिश तो बहुत करता हूँ,
लेकिन किसी से अब तुम्हारे जैसी मोहब्बत नही होती।shayari in hindi (4)

#5 shayari in hindi

मुस्कुराने के मकसद न ढूंढ वरना जिन्दगी कट जायेगी
कभी बेवजह मुस्कुरा के भी देख तेरे साथ जिन्दगी भी मुस्कुरायेगी।।shayari in hindi (5)

#6 love shayari in hindi for girlfriend

बदलना तो तय है हर चीज बदलती है इस जहां में,
किसी का दिल बदल गया किसी के दिन बदल गए।

#7 love shayari in hindi

यूं तो किसी चीज के मोहताज नही हम,
बस एक तेरी आदत सी हो गयी है।

#8 love shayari in hindi

बिना दिल के जज्बात अधूरे हैं।।
बिना धड़कन अहसास अधूरे हैं।।
बिना साँसों के ख्वाब अधूरे हैं।।
बिना आपके हम भी अधूरे हैं।।

#9 love shayari in hindi

ज़ुल्फों को उंगलियों से किनारे किया ना कर।।
दिल मेरा हैं आवारा इसे और बिगाड़ा ना कर।।

#10 love shayari in hindi

खुली जब आँखे मेरी तो जाग उठी हसरते सारी,
मैंने उसको भी खो दिया जिसे पाया था ख़्वाब मे।।

#11 love shayari status

यही दो मसले जिंदगी भर ना हल हुए,
ना नींद पूरी हुई ना ख्वाब मुकम्मल हुए!

#12 love shayari status

हमारी पसंद अपनी, निगाह से न तोलिये..
यह दिल के मामले हैं, इनमें न बोलिये!

#13 love shayari status

कैसा सरूर है यह तेरे इश्क का मेरे मेहरबाँ,
सँवर कर भी रहते हैं फिर भी बिखरे-बिखरे से हैं हम!

#14 love shayari status

रिश्ता बनाया है तो निभायेंगे,
हर वक्त तुमसे लड़ेंगे और तुम्हे मनायेंगे!

#15 love shayari status

मसरूफ रहने का अंदाज तुम्हे तन्हा न कर दे ये दोस्त,
रिस्ते फुरसत के नहीं तबज्जो के ही मोहताज़ होते हैं।

#16

तकलीफ होगी आपके नाजुक ख्यालों को,
यूं अकेले बैठकर हमें सोचा न कीजिए।

#17

मिल जाती अगर सभी को अपने मोहब्बत की मंजिल।
तो इन रातो के अँधेरो में कोई दर्द भरी गजल नही लिखता!

#18

काश तुम समझ सकते मोहब्बत कें उसूलो को,
किसी कें दिल में समां कर तन्हा नहीं करते!

#19

मेरे दिल ने कभी किसी का बुरा नहीं चाहा,
ये बात और है के मुझे साबीत करना नहीं आया!

#20

कहीं हर ज़िद पूरी, कहीं ज़रूरत भी अधूरी,
कहीं सुगंध भी नही, कहीं पूरा जीवन कस्तुरी।

#21

गली दबा के दाँतो में वो मुस्कुरा दिए,
इतनी सी बात ने कई तूफां उठा दिए!

#22

मासूम सी मेरी मुहब्बत को यह हसीं तोहफे दे गए हैं,
जिंदगी बन कर आए थे और जिंदगी ले गए हैं!!

#23

इक मन था मेरे पास वो अब खोने लगा है,
पाकर तुझे, हाय मुझे कुछ होने लगा है!!

#24

इलाज बता दो इस मोहब्बत का कोई सस्ता सा!!
एक गरीब इश्क़ कर बैठा है इस महंगाई के दौर मैं!!

#25

वो लोग जो तुम्हें कभी-कभी याद आते है,
अगर हो सके दोस्तों तो मुझे उनमें शुमार कर लेना!

#26

तुम्हारी आंखों का कोई कसूर नहीं,
इन्हें देखकर बहकना लाज़मी हैं!

#27

तन्हाई मैं मुस्कुराना भी इश्क़ है,
इस बात को सब लोगों से छुपाना भी इश्क़ है

#28

रूबरू मिलने का मौका मिलता नहीं है रोज,
इसलिए लफ्ज़ों से तुमको छू लिया मैंने!

#29

बहुत “हिफाजत” कर ली अब हमने अपनी,
दिल चाहता है कि अब कोई चुरा ले हमे!!

#30

दीवाना उसने बना दिया एक बार देख कर,
हम कुछ नहीं कर सकें उनको बार-बार देख कर!!

#31

दिखने में वो बहुत गरीब थी साहब पर..
उसकी हँसी किसी शहजादी से कम नहीं थी।

#32

सुबह की ख़्वाहिशें शाम तक टाली हैं,
कुछ इस तरह हमने ज़िंदगी सम्भाली है।

#33

मोहब्बत बुरी है बुरी है मोहब्बत,
कहे जा रहे है किये जा रहे है।

#34

कुछ भी लिखूँ, कुछ भी कहूँ,
बिन तुम्हारे सब अधूरा है।

#35

कभी ना कभी वो मेरे बारे में सोचगें जरूर ही।।
की हासिल होने की उम्मीद भी नहीं थी।।
फिर भी इतना वफा करती थी।।

#36

मेरी​ सांस मेरी धड़कन मेरी जान हो तुम
इश्क की शुरुआत हूं मैं और अंजाम हो तुम।

#37

तुम्हारे होगें चाहने वाले बहुत इस कायनात में,
इस पागल की तो मगर कायनात की तुम हो

#38

बयाँ करने थे बस दो अल्फाज मोहब्बत के!!
जुबाँ ने साथ ना दिया और आँखें तुम पढ़ ना पाए!!

#39

आँखों में काजल रखुगीं किसी का इंतज़ार नहीं!!
खूबसूरत हुं मै खूबसूरत दिखुगीं बेक़रार नहीं!!

#40

मुद्दत के बाद एक झोंका सा महसूस हुआ वीराने दिल में!
जिंदगी कहीं यह तेरे कदमों की आहट तो नहीं हैं!!

#41

सब मुझे ही कहते हैं कि उसे भूला दे,
उसे कोई नहीं कहता कि वो मेरा हो जाये!!

#42

बयाँ करने थे बस दो अल्फाज मोहब्बत के!!
जुबाँ ने साथ ना दिया और आँखें तुम पढ़ ना पाए!!

#43

चाँद भी झाँकता है खिड़कियों से अक्सर!!
मेरी तन्हाईयों की चर्चा अब तो आसमानों में है!!

#44

वहाँ मोहब्बत में पनाह मिले भी तो कैसे!!
जहाँ मोहब्बत बे पनाह हो!!

#45

किसी ने मुझसे पूछा ज़िन्दगी कैसे बर्बाद हुई!!
मैंने ऊँगली उठायी और मोबाइल पर रख दी!!

#46

अश्कों से भीगे हुए पन्ने पर यूँ लफ्ज़ सिमटते गए!
दर्द से बेहाल कलम और ज़ज़्बात पिघलते गए!!

#47

मै अपनी दोस्ती को शहर में रुसवा नहीं करता!!
मोहब्बत मैं भी करता हु मगर चर्चा नहीं करता!!!!

#48

माली चाहे कितना भी चौकन्ना हो जाए!!
फूल और तितली में रिश्ता हो ही जाता है!!

#49

यूँ ही गुजर जाती है शाम अंजुमन में!!
आँखों के बहाने कुछ और तेरी बातो के बहाने कुछ!!

#50

न ही मिल रहे हो न खो रहे हो तुम!!
दिन-ब-दिन बेहद दिलचस्प हो रहे हो तुम!!

#51

मोहब्बत मे कभी कोई जबरदस्ती नही होती हैं!!
जब भी आपका जी चाहे तुम बस मेरे हो जाना!!

#52

अजीब सी आदत गजब की फितरत है मेरी!
नफरत हो या प्यार बड़ी ही शिद्दत से करता हूं!!

#53

हमारे लबों से एक शब्द सुनने को तरस जाओगे!!
प्यार की बात करना तो छोड़ो हम तो शिकायत तक नहीं करेंगे!!

#54

बेशक नजरों से बहुत दूर हो!!
पर तुम मेरे सबसे करीब हो!!

#55

ज़िक्र बेवफाओँ का था रात सर-ए-महफ़िल मे!!
झुका मेरा भी सिर जब मेरे यार का नाम आया!!

#56

मैं तो अपने ही जज्बातों में खोई थी!!
एहसास ही नहीं हुआ कि कब तुम मेरी एहसास बन गए!!

#57

कितनी बन्दिशें कितनी हदें कितनी रस्मों!!
को तोड़ा है को तोड़ा हैं मैंने आपके लिए!!

#58

ज़िस्म-ए-दामन में पहले ही दर्द कम ना थे,
कुछ और मुनाफ़ा कर गए जो हमदर्द थे।।

#59

ना मैं गिरा ना ही मेरे हौंसलौं के मिनार गिरे,
कुछ लोग मुझको गिराने मैं बार बार गिरे।।

#60

ना रुकी वक़्त की गर्दिश ना ज़माना बदला,
वक़्त बदला तो परिंदों ने ठिकाना बदला।।

#61

किस हक से कहूँ कि मुझसे बात कर लिया करो,
ना ही ये वक्त मेरा है और ना ही अब तुम मेरी रही।।

#62

इश्क़ की बाज़ी है जो चाहो लगा दो डर कैसा,
जीत गए तो क्या कहना हारे भी तो बाज़ी मात नहीं।।

#63

सपना था बिखर गया ख्याल था मिला नहीं,
मगर इस दिल को हुआ क्या, ये क्यूँ बुझा पता नहीं!
तमाम दिन उदास दिन तमाम रात उदासियाँ,
किसी से कोई अलग हुआ जैसे कुछ बचा नहीं!!

#64

उदास ना बैठो हवाएँ तंग करेंगी,
गुज़रे हुए वक़्त की सज़ा तंग करेगी!
किसी को ना लाओ दिल के इतना पास,
क्यूंकि उसके ना रहने पे उसकी हर अदा तंग करेगी!!

#65

मुझे दुखी देख कर उसने कहा!
मेरे रहते हुए कोई तुम्हे दुख नहीं दे सकता!!
फिर वही हुआ बाद में जितने भी दुख मिले सब उसी ने दिए!!

#66

एक दर्द छुपा रखा है सदियों से इस दिल में!
जी करता है आज बयाँ कर दूँ भरी महफ़िल में!!
क्यूँ ऐसा लगता है कि मेरी नज़रें मुझसे जुदा हैं!
आज भी क्यूँ मेरे सपने मुझसे खफा हैं!!

#67

कुछ खामोशियां वेबजह नही होतीं!
कुछ दर्द आवाज़ छीन लिया करतें है!!

#68

एक ख्वाहिश थी सच्चा प्यार पाने की,
लेकिन चल पड़ी आँधियां जमाने की।
मेरा दुख तो कोई ना समझ पाया,
क्यूंकि मेरी आदत ही थी सबको हँसाने की।।

#69

सपनो की बारात सजाना मुश्किल है,
आपकी मुलाकात को भूल पाना मुश्किल है।
इस कदर रंगा है ये दिल आपके प्यार में,
कि इस दिल से आपको दूर कर पाना मुश्किल है।।

#70

सोचा ना था कि यह दिन आएगा,
इस दिल को तू भा जाएगा।
नाचेगी धरती, आसमान झूम उठेगा,
अनजान नगरी में सनम दिख जाएगा।।

#78

तोड़ा कुछ इस तरह से ताल्लुक उसने ग़ालिब।।
के सारी ज़िन्दगी हम अपना क़सूर ढूँढ़ते रह गए।।

#79

इंसान तो सब हैं, मगर फर्क बस इतना है।।
कोई ज़ख्म देता है तो कोई ज़ख्म भरता है।।
हमसफर तो बहुत हैं मगर फर्क बस इतना है।।
कोई साथ देता है, कोई साथ छोड़ देता है।।
प्यार तो सब करते हैं मगर फर्क बस  इतना है।।
कोई जान देता है तो कोई जान ले लेता है।।

#80

अगर ना मिलता सितम तो फिर बर्बादी के अफसाने कहाँ जाते।।
ये दुनिया अगर होती चमन तो वीराने कहाँ जाते।।
चलो अच्छा हुआ कि अपनो में कोई पराया तो निकला।
सभी अगर अपने होते तो बेगाने कहाँ जाते।।

#81

जब कोई ख्वाब दिल से टकराता है,
दिल न चाह कर भी शांत रह जाता है।
कोई सब कुछ कहकर मोहब्बत जताता है,
कोई कुछ न बोलकर भी सब बोल जाता है।।

#82

ये कातिल निगाहें याद रहेंगी ,
मिलकर भी ना मिलने की अदा याद रहेंगी।
मुमकिन नहीं की मैं आपको भूला पाऊँ,
और उम्र भर आपके साथ भी मेरी याद रहेगी।।

#83

अगर कोई अच्छा लगे तो उनसे प्यार मत करना,
उनके लिए अपनी नींदे खराब मत करना।
वो दो दिन तो आएँगे खुशी से मिलने,
तीसरे दिन कह देंगे इंतज़ार मत करना।।

#84

भूल कर पूरी दुनिया को आज
हम प्यार का इजहार करते हैं।
लो पहले हम ही बोल देते हैं,
कि हम आपसे बेहद प्यार करते हैं।। 

#85

हम नाराज़ दिलों को मनाने में रह गए,
गैरों को अपना दुख सुनाने में रह गए।
मंज़िल हमारी, हमारे पास से गुज़र गयी,
हम दूसरों को राहें दिखाने में रह गए।।

#86

मोहब्बत का ये राज कभी किसी को मत बता देना,
दिल में न समाये तो आंसुओं में ही छुपा लेना।
कोई हवा का झोंका जो छूकर गुज़र गया,
इस कदर मेरी जान तुम मुझको अपनी यादों से निकाल देना।।

#87

कुछ तो गहरी बात जरूर होती होगी मोहब्बत में,
नहीं तो एक प्रेमी के लिये कोई ताजमहल नही बनवाता।

#88

किसी की यादें इस दिल में आज भी हैं,
भूल गए वो मगर मोहब्बत आज भी है।
हम खुश रहने की दवा तो करते हैं लेकिन,
उनकी याद में बहते अश्क आज भी हैं।।

#89

ज़िन्दगी का हर पन्ना रंगीन नहीं होता,
हर रोने वाला तो गमगिन नहीं होता।
एक ही दिल है, कोई कब तक तोङेगा,
अब तो अगर कोई जलता भी है तो यकीन नहीं होता।

#90

हर दर्द किसी ठोकर की मेहरबानी है,
मेरा जीवन बस एक कहानी है।
मिटा देते उसके यादों को सीने से,
पर ये याद ही उसकी आखिरी निशानी है।।

#91

मुझको ऐसा ज़ख्म मिला जिसकी दवा नहीं,
फिर भी मैं खुश हूँ मुझे उस से कोई गिला नहीं।
और कितने आंसू बर्बाद करूँ उस के लिए,
जिसको ऊपर वाले ने मेरे नसीब में लिखा ही नहीं।

#92

उसकी चाहत का सिलसिला भी क्या अजीब था,
अपना भी ना बनने दिया, किसी दूसरे का भी ना बनने दिया।।

#93

भले हज़ार कर लो कोशिश मगर दिल की बात कही न जायेगी।।
सनम जी कभी न होना जुदा मुझ से जुदाई सही न जायेंगी।।

#94

शिकवा बस इसका है मुझ को,
मैं कुछ भी कह नहीं पाया।।
इसे मेरी कमज़ोरी ही कह लो,
मगर तेरे बिन रह नहीं पाया।।

#95

मेरी तरह तारों से कहा उसने ज़रूर कुछ होगा,
अकेला मैं नहीं रोता, सहा उसने  ज़रूर कुछ होगा।।

#96

अक्सर दिखावे का प्यार ही शोर करता है!!
अगर सच्ची मोहब्बत हो तो इशारों में ही सिमट जाती है!!

#97

हम तो आदी है सह ही लेंगे तेरा दिया हुआ हर जख्म।
सोचते है हम अगर तुझे किसी ने ठुकराया तो तेरा क्या होगा।

#98

कभी भी मैं पुराने फटे कपड़े पहनने में नही हिचकिचाता!!
मुझे आज भी याद है वो तपते दिनों में पापा का काम करना!!

#99

तू अगर शोर है तो मेरी खमोशी तोड़ कर दिखा!!
तू अगर इश्क़ है तो मेरी रूह मे उतर कर दिखा!!

#100

मन का कोई कोना अंधेरे में ना रहे,
एक चिराग भीतर भी जलाओ यारों।

#101

कहतें हैं कि मोहब्बत एक बार बस होती है!!
मैं जब-जब उसे देखता हूँ मुझे तो हर बार होती है!!

#102

अब तो स्याही भी ना सूख पाती है अखबार की,
रोज़ एक और खबर आ जाती है बलात्कार की।

#103

ढूँढती हैं तुम्हें बेतहाशा मेरी नज़र!!
हवा अब तो दे दे उन्हें मेंरी ख़बर!!

#104

तूम सिगरेट की पहली फूंक की तरह है!!
जरूरी भी है और नुकसानदायक भी!!

#105

मैंने तो उन्हें यूँ ही देखा था दीदार-ए-शौक की खातिर,
तुम दिल में उतर जाओगे ऐसा कभी सोचा तक नहीं था।।

#106

मैंने तो उन्हें देखा था बस एक नजर के खातिर,
क्या खबर थी की रग-रग में समां जाओगे तुम इस कदर।।

#107

इश्क़ के तरीके बेहद जुदा हैं मेरे औरों से!!
मुझे तन्हा होने पर भी तुम से इश्क करना आता हैं!!

#108

इस दिल से तेरा ख्याल ना जाए तो क्या करूँ
मैं क्या करूँ कोई यह ना बताए तो क्या करूँ।

#109

वो आँखों ही आँखों में करती है ऐसे बातें,
के कानों कान किसी को खबर नही होती।।

#110

ख़ामोशी की तह में छुपा लो सारे उलझनें,
शोर कभी मुश्किलों को आसान नहीं करता।

#111

हंसी के लिए गम भी कुर्बान हैं!!
ख़ुशी के लिए आंसू भी कुर्बान हैं!!
दोस्त के लिए जान भी कुर्बान हैं!!
और अगर दोस्त की गर्लफ्रेंड मिल जाए!!
तो साला दोस्त भी कुर्बान हैं!!

#112

किस-किस का नाम लें अपनी बरबादी मे!!
बहुत लोग आये थे दुआये देने शादी मे!!

#113

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी हैं कि हर ख्वाहिश पर नूर निकले,
जी भर के कभी ना पी पाया क्योंकि जेब में पैसे कम निकले।।

#114

जुल्फों में फूलों को सजा के आयी,
चेहरे से दुपट्टा उठा के आयी!!
पूछा किसी ने आज खुबसूरत लग रही है,
हमने कहा शायद आज नहा के आयी!!

#115

उम्र की राह में जज्बात बदल जाते है!!
वक़्त की आंधी में हालात बदल जाते है!!
सोचता हूँ कि काम कर-कर के रिकॉर्ड तोड़ दूँ!!
पर ऑफिस आते आते ख़यालात बदल जाते है!!

#116

ऐ भगवान हिचकियों में कुछ तो फर्क डाला होता,
अब कैसे पता करूँ के कौन सी वाली याद कर रही है।

#117

उस से कह दो वो मुझे पागल न कहे फ़राज़!!
मम्मी कहती हैं जो कहता है वो खुद ही होता है!!

#118

वो मिला तो कहता था कि पायलट बनूँगा!!
आज हालत ऐसी है कि मक्खी भी उड़ाई नहीं जाती उससे!!

#119

मत कर मेरे दोस्त हसीना से मोहब्बत,
वो तो आँखों से वार करती हैं!
मैंने तेरी वाली की आँखों में देखा है,
वो तो मुझ से भी प्यार करती है!!

#120

आपकी सूरत मेरे दिल में ऐसे बस गयी है,
जैसे छोटे से दरबाजे में भैस फस गयी है।

#121

वह बेवफा है तो क्या हुआ मत बुरा कहो उसको,
तुम मुझसे सेट हो जाओ दफा करो उसको!!

#122

ख़त लिखता हूँ खून से स्याही ना समझना!!
किसी मरीज़ का सैंपल आया था मेरा न समझना!!

#123

शादी करनी थी पर किस्मत खुलती नहीं,
ताज बनाना था पर मुमताज़ मिलती नहीं!
एक दिन किस्मत खुली और शादी हो गयी,
अब ताज बनाना है पर मुमताज़ मरती नहीं!!

#124

धोखा मिला जब प्यार में हमे!
ज़िन्दगी में उदासी छा गयी!!
सोचा था छोड़ देंगे प्यार करना!
पर आज मोहल्ले में दूसरी आ गयी!!

#125

अब तो वो चाक़ू ले कर मेरे पीछे पड़ा है।।
उस से कह दिया था की दिल चीर के देख तेरा ही नाम होगा।

#126

तेरे इश्क ने मुझे सरकारी दफ्तर बना दिया!!

#127

अब यह दिल न कोई काम करता है न कोई बात सुनता है।

#128

वह इश्क़ की राहों में क्या कमाल करती है,
लिखती है आई लव यू और सेंड तो आल करती है।

#129

किसी का झूठा खाने से मोहब्बत बढ़ती है!!
यह कह कर वो मेरा सारा हलवा खा गया!!

#130

तेरी दुनिया में कोई गम न हो!
तेरी खुशियाँ कभी कम न हों!!
भगवान तुझे ऐसी आइटम दे!
जो सनी लिओने से कम न हो!!

#131

दिल का दर्द दिल तोड़ने वाला क्या जाने!
प्यार के रिवाजों को ये ज़माना क्या जाने!!
होती है कितनी तकलीफ लड़की पटाने में!
ये घर बैठा उसका बाप क्या जाने!!

#132

आप दिल पर न मेरे यूँ वार कीजिये,
छोड़ो ये नफरत थोड़ा प्यार कीजिये!
करवा देंगे हम आपकी अच्छी जगह शादी,
तब तक हमारे साथ आँखें चार कीजिये!

#133

ये जो लड़कियों के बाल होते हैं,
लड़कों को फ़साने का जाल होते हैं!
खून चूस लेती हैं लड़कों का सारा,
तभी तो इनके होंठ लाल होते हैं!!

#134

तुझसे कैसे नजर मिलाएं दिलबर जानी!!
तेरी दाई आँख कानी मेरी बाईं आँख कानी!!

#135

सफ़ेद साड़ी पे जब लाल बिन्दी लगाती हो,
कसम से एक दम एम्बुलेंस नजर आती हो!
वो तो घायलों को लेकर जाती है,
और तुम घायल करके जाती हो!!

#136

इश्क को सर का दर्द कहने वाले सुन!
हमने तो ये दर्द अपने सर ले लिया!!
हमारी निगाहों से बचकर वो कहाँ जायेंगे!
हमने उनके मोहल्ले में ही घर ले लिया!!

#137

तेरे इश्क का बुखार है मुझको!
और हर चीज़ खाने की मनाही है!!
एक इश्क के हकीम ने सिर्फ!
तेरे चमन की मौसमी बतायी है!!

#138

आँखों को किसी आहट की आस रहती है!
निगाह को किसी सूरत की तलाश रहती है!!
तेरे बिन कोई कमी तो नहीं है ऐ दोस्त!
बस गली वाली जमादारनी उदास रहती है!!

#139

तेरे ग़म में तड़प कर मर जायेंगे,
मर गए तो तेरा नाम ले जायेंगे!
रिश्वत देकर तुझे भी बुलायेंगे,
तुम ऊपर आओगे तो साथ बैठकर कुरकुरे खायेंगे!!

#140

जब होता है तुम्हारा दीदार!!
दिल धड़कता है बार-बार!!
आदत से मजबूर हो तुम!!
न जाने कब मांग लो उधार!!

#141

जवानी के दिन चमकीले हो गए!!
हुस्न के तेवर भी नुकीले हो गए!!
हम इंतज़ार करने में रह गए यारो!!
और उधर उनके हाथ पीले हो गए!!

#142

काश प्यार का इन्स्योरेंसे करवाया जाता!
प्यार करने से पहले प्रीमियम भरवाया जाता!!
अगर प्यार में वफ़ा मिली तो ठीक वरना!
जो खर्चा होता उसका क्लेम दिलवाया जाता!!

#143

बहुत खूबसूरत हो तुम फूल की तरह,
खुद को दुनिया की नजर से बचाया करो!
सिर्फ आँखों में काजल ही काफी नहीं,
गले में निम्बू मिर्ची भी लटकाया करो!!

#144

मेरी साँसों में जो समाया बहुत लगता है,
वोही शख्स मुझे पराया बहुत लगता है!
उससे मिलने की तमन्ना तो बहुत है मगर,
आने जाने में किराया बहुत लगता है!!

#145

ये कह कर उन्होंने हमसे रिस्ता तोड़ दिया फ़राज!
के मूंगफली में दाना नहीं और हम तुम्हारे नाना नहीं!!

#146

आँखों में आँसू चेहरे पे हँसी है,
सांसों में आहें दिल में बेबसी है!
पहले क्यूँ नहीं बताया यार,
के दरवाजे में तेरी ऊँगली फसी है!!

#147

इतना खूबसूरत कैसे मुस्कुरा लेते हो,
इतना कातिल कैसे शर्मा लेते हो!!
कितनी आसानी से जान ले लेते हो
किसी ने सिखाया या बचपन से ही कमीने हो!!

#148

सफ़र लंबा है दोस्त बनाते रहिये,
दिल मिले न मिले हाथ बढ़ाते रहिये!
ताज महल न बनाइये महगा पड़ेगा,
मुगर हर तरफ मुमताज बनाते रहिये!!

#149

असमान में काली घटा छाई है,
आज फिर तूने गर्लफ्रेंड से मार खाई है!
मगर इसमें तेरी गलती नहीं है दोस्त,
तू सकल लगता कालू हलवाई है!!

#150

मोहब्बत कर ली तुमसे बहुत सोचने के बाद!
अब किसी को देखना नहीं तुम्हे देखने के बाद!!
दुनिया छोड़ देंगे तुम्हे पाने के बाद!
खुदा माफ़ करे इतना झूट बुलवाने के बाद!!

#151

जब देखा उन्होंने तिरछी नजर से!
कसम खुदा की मदहोश हो गए हम!!
जब पता चला नजर ही तिरछी है!
तो बही खड़े-खड़े बेहोश हो गए हम!!

#152

अर्ज़ किया है!
कि बहार आने से पहले खिज़ां आ गई!
और फूल खिलने से पहले बकरी खा गई!!

#153

चाँद को तोड़ दूंगा सूरज को फोड़ दूंगा!!
तू एक बार हाँ कर दे पहले वाली को छोड़ दूंगा!!

 

अंतिम शब्द 

भावनाओ को छुपा के रखने से हम अंदर अंदर कमजोर होते है इसलिए अपनी भावनाओं को कभी छुपाके न रखें लेकिन लोगो से सीधे अपनी भावना सांझा न करे क्योकि वो आपकी भावनाओं को नही समझेगे।

अतः hindi shayari का उपयोग करके आप भावनाओ को शेयर कर सकते है।

आशा है ऊपर दी हुई hindi shayari आपको पसंद आयी होगी।